पृष्ठ

LATEST:


विजेट आपके ब्लॉग पर

गुरुवार, 22 अक्तूबर 2009

धर्म क्या है? धर्म के कितने अंग है?

सत्य,त़प, पवित्रता ओर दया इन चारों का समन्वय ही धर्म है| धर्म का पहला अंग सत्य है| सत्य ही परमात्मा है | सत्य द्वारा नर, नारायण बनता है | धर्म का दूसरा अंग तप है | दुःख सहन कर के जो भक्ति करते है वही तप है| प्रभु आप को बहुत सम्पति देते है पर बहुत सुख का उपयोग ना करिये | जो बहुत सुख भोगता है उसके तन ओर मन दोनों बिगड़ते है| समझ कर दुःख सहन करना और भक्ति करना ही तप है| धर्म का तीसरा अंग पवित्रता है| मन को पवित्र रखिए | मरने के बाद मन साथ जाता है | मन को सम्भालिये ओर उसे भटकने ना दे | धर्म का चौथा अंग दया है | प्रभू ने आपको दिया है तो उदार होकर अन्य को भोजन कराइए | और स्वंय खाइये | प्रभु ने नहीं दिया तो दूसरों की सेवा में अपने तन को लगाइये |

8 टिप्‍पणियां:

  1. सच में सच्चा धर्म यही है की हम दूसरों के कुछ काम आयें...

    उत्तर देंहटाएं
  2. अंजना जी सच कहूँ तो आज आप के ब्लॉग पे आके बहुत संतुष्टि मिली .....बहुत बहुत आभार .....!!

    उत्तर देंहटाएं
  3. dhrm ko bahut achhe tareeqe se
    paribhaashit kiyaa hai aapne
    aalekh mn.neey hai

    abhivaadan

    उत्तर देंहटाएं
  4. आप सभी ने मेरे इस लेख को सहारा इस के लिए आप सभी का बहुत बहुत धन्यवाद

    उत्तर देंहटाएं
  5. पूरी तरह से सच और जीवन को नया मोड़ देने वाली अभिव्यक्ति।
    हेमन्त कुमार

    उत्तर देंहटाएं

LinkWithin

Related Posts with Thumbnails